बुधवार, 25 अगस्त 2010

फ़न से किस का रिश्ता है





कौन यहाँ अब पूछे फ़न को,आज कहाँ यह दिखता है
नाम बिके हैं महफ़िल-महफ़िल, फ़न  से किस का रिश्ता है

जोंक बनें हैं आज चिकित्सक ,खून सभी का चूसे हैं
उनके दवाखानों में भी नित, मौत का तांडव होता है

खेल, खिलाड़ी, अभिनेता को, लोग बिठाते सर-माथे
वीर जवानों की कुर्बानी, मोल बहुत ही सस्ता है

चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है

शांति, सुरक्षा, खुशहाली का राज तो अब इक सपना है
पाप पले अब थानों में आतंक पुलिस का रहता है


(चित्र गूगल सर्च से साभार )

37 टिप्‍पणियां:

  1. अर्चना जी,बहुत बढ़िया सामयिक गजल लिखी है..हर शेर आज के हालात बयां कर रहा है...

    खेल, खिलाड़ी, अभिनेता को, लोग बिठाते सर-माथे
    वीर जवानों की कुर्बानी, मोल बहुत ही सस्ता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज के हालातों पर सटीक गज़ल ..बहुत अच्छे लगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahut sahee rachna samayik aur sateek.
    Par itan nirash nahee hote. kuch achche log bhee to hain jo apna kam karate rehate hain.

    उत्तर देंहटाएं
  4. चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है .nice

    उत्तर देंहटाएं
  5. कौन यहाँ अब पूछे फ़न को,आज कहाँ यह दिखता है
    नाम बिके हैं महफ़िल-महफ़िल, फ़न से किस का रिश्ता है

    बहुत ख़ूब!
    बिल्कुल सही फ़रमाया आप ने

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही कहा अपने.... एक सटीक ग़ज़ल के माध्यम से.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच को दर्शाति बढ़िया पेशकस ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कौन यहाँ अब पूछे फ़न को,आज कहाँ यह दिखता है
    नाम बिके हैं महफ़िल-महफ़िल, फ़न से किस का रिश्ता है
    यथार्थ बयान करती ग़ज़ल...

    खेल, खिलाड़ी, अभिनेता को, लोग बिठाते सर-माथे
    वीर जवानों की कुर्बानी, मोल बहुत ही सस्ता है
    हासिले-ग़ज़ल शेर...
    बहुत बहुत मुबारकबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कमाल की रचना पेश की है. सच, कड़वा-तीखा सच, यही तो ज़िम्मेदारी है रचनाकार की. तस्वीर कितनी ही बदसूरत क्यों न हो, उसे समाज और सल्तनत के सामने जरूर रखे.

    उत्तर देंहटाएं
  10. नई जमीन खोजें आप भी,तोडें नए सितारे कुछ
    वरना आज हर कवि, लेखक यही सब तो लिखता है

    उत्तर देंहटाएं
  11. archanaa....gazal ko to acchha nahin kah saktaa magar....iske bhaav bahut-bahut-bahut acchhe hain sach....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है
    ....यह तो सोचने वाली बात हो गई...सुन्दर कविता..बधाई.
    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में अब सी-प्लेन में घूमने की तैयारी...

    उत्तर देंहटाएं
  13. चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है

    bahut sach

    उत्तर देंहटाएं
  14. खेल, खिलाड़ी, अभिनेता को, लोग बिठाते सर-माथे
    वीर जवानों की कुर्बानी, मोल बहुत ही सस्ता है
    ..एक सैनिक के लिए आप जैसे संवेदनशील लोगों का लगाव ज्यादा मायने रखता है.. बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  15. Archana ji,
    Saamyik stithiyon par achchhi ghazal kahi hai badhai. Main bhi aaj apke blog par pahali baar aya hoon apki ghazalen bahut achhi lagin.
    Shubh kamanaayon sahit,
    Chandrabhan Bhardwaj

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपको एवं आपके परिवार को दुखद और जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !
    बहुत बढ़िया ! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  17. जोंक बनें हैं आज चिकित्सक ,खून सभी का चूसे हैं
    उनके दवाखानों में भी नित, मौत का तांडव होता है ..

    आज के कड़ुवे सच को हूबहू उतार दिया है शेरों में .... बहुत लाजवाब ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  19. व्यवस्था की जर्जरता और नैतिकता के पतन की ओर अच्छा संकेत।

    उत्तर देंहटाएं
  20. व्‍यथित मन की कातर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  21. ग़ज़ल का अंदाज अच्छा है. पसंद आया.
    - विजय तिवारी " किसलय "

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुन्दर रचना है ......आज के हिंदुस्तान के हालत पर तीखा व्यंग्य करती हुई कविता है .....आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ .........एक बात और आप जो तस्वीर पोस्ट के साथ लगाती हैं ....वह पोस्ट के भावों को काफी हद तक व्यक्त कटी है ..........उम्मीद है आगे भी ऐसे हो पोस्ट पढने को मिलेंगी इस उम्मीद में आपको फॉलो कर रहा हूँ.......

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए-
    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    उत्तर देंहटाएं
  24. Archana jee mere blog par padharne ke liye dhanyavad.Aapki ghazalon ka janvadi tevar mujhe Dushyant kumar ki yaad dilata hai.Likhate rahiye.Shubhkamanayen.

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !

    उत्तर देंहटाएं
  26. चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है
    ..कटु सत्य।

    उत्तर देंहटाएं
  27. अर्चना जी
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल......
    हरेक शेर लाजवाब
    ज़िन्दगी की साक्ची क्या ख्गूब बयां की है आपने.......
    चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है

    वाह वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  28. अर्चना जी
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल......
    हरेक शेर लाजवाब
    ज़िन्दगी की सच्चाई क्या खूब बयां की है आपने.......
    चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है

    वाह वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  29. चावल, गेहूँ, सब्जी, दालें, गायब हो गए थाली से
    दाम गिरे मोबाइल, सिम के,पेट क्या इनसे भरता है
    बहुत सुन्दर ... सामयिक रचना
    हालात तो यही हैं

    उत्तर देंहटाएं
  30. कौन यहाँ अब पूछे फ़न को,आज कहाँ यह दिखता है
    नाम बिके हैं महफ़िल-महफ़िल, फ़न से किस का रिश्ता है
    vartamaan visangatiyon ki jivant abhivyakti ..Archna abhinandan...bahut hi sunder rachna k liye.... amarjeet mishra

    उत्तर देंहटाएं