मंगलवार, 3 अगस्त 2010

मुहब्बतें हैं कहाँ, अब तो वासनाएं हैं



घुटन है, पीर है, कुंठा है, यातनाएं हैं
मुहब्बतें हैं कहाँ, अब तो वासनाएं हैं

जमाना जब भी कोई धुन बजाने लगता है
थिरकने लगतीं उसी ताल पर फिजाएं हैं

नजर लगाने की खातिर हैं नेकियाँ आईं
उतारने को नजर आ गईं बलाएं हैं

पराग बाँट रही हैं, परोपकारी हैं
कली कली के दिलों में बसी वफाएं हैं

जमीन अब भी है प्यासी किसी हिरन की तरह
फलक पे झूम रहीं सांवली घटाएं हैं

उड़न खटोले की मानिंद उड़ रहे बादल
बरस भी जाएं हर इक लब पे यह दुआएं हैं

मचल मचल के चले जब कभी यहाँ पुरवा
गुमान होता है जैसे तेरी सदाएं हैं

ये बिजलियों की चमक के भी क्या नजारे हैं
पहन के हार चली जैसे दस दिशाएं हैं

पड़े जो बूँद तो सोंधी महक धरा से उठे
हसीन रुत की निराली यही अदाएं हैं

(चित्र गूगल सर्च से साभार )

25 टिप्‍पणियां:

  1. मचल मचल के चले जब कभी यहाँ पुरवा
    गुमान होता है जैसे तेरी सदाएं हैं
    सुंदर अभिव्यक्ति ,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब !! अच्छे शेर .... बढ़िया ग़ज़ल !!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरती से आपने गज़ल कही है...बहुत उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  4. नजर लगाने की खातिर हैं नेकियाँ आईं
    उतारने को नजर आ गईं बलाएं हैं
    bahuk khoob

    उत्तर देंहटाएं
  5. पूरी गजल ही काबिले-तारीफ है. धीरे-धीरे आपकी गजलों में आपका लहजा अपनी पहचान बनाता जा रहा है. किसी रचनाकार के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है अगर उसके लेखन-भाषा-शैली भी उसकी पहचान का माध्यम बन जाएँ.
    मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं ही लेकिन एक बात मैं जरूर कहना चाहूँगा--- अभी आपने सफर का आगाज़ किया है, रास्ता बहुत लम्बा है और मंजिल तभी मिलेगी जब बेहद मशक्कत करेंगी आप. अगर साहित्य में स्थान बनाना है तो यह याद रखना होगा. अगर टाइम पास है, फिर कोई बात नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक बहुत ही उम्दा और दिल को छूने वाली गज़ल्………………हर शेर बेहतरीन्।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इसे पढकर दो पंक्तियां याद आ गई

    नफ़रत की तो गिन लेते हैं, रुपया आना पाई लोग,
    ढ़ाई आखर कहने वाले, मिले न हमको ढ़ाई लोग।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस बार आपके लिए कुछ विशेष है...आइये जानिये आज के चर्चा मंच पर ..

    आप की रचना 06 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  10. aapne aisi bhookh ki aur ishra kiya hai jo janwar ki ho gai

    उत्तर देंहटाएं
  11. मंगलवार 10 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ....आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी यही गजल तो तरही मुशायरे वाले ब्लॉग पर भी लगी है. वहाँ टिप्पणी देने में कठिनाई हो रही थी लेकिन यहाँ आसानी है. आप की पुरानी पोस्ट भी देखीं. आप तो बहुत अच्छा लिखती हैं और आपके विषय भी बहुत दमदार होते हैं. आप महिला लेखिकाओं में अपनी अलग पहचान बना रही हैं, आपने ध्यान दिया, आपकी रचनाओं में अन्य लोगों की तरह रोमांस नहीं होता और यही आपको औरों से अलग करता है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुबीर जी के ब्लॉग पर जितनी अच्छी लगी उतनी ही अच्छी ये ग़ज़ल यहाँ भी लगी...बेहतरीन चीज़ की येही तो खूबी है हर कहीं अच्छी लगती है...लिखती रहिये...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. maza aa gaya aaki kavita pad kar,,
    bahut hi khoob,,,,,
    Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

    A Silent Silence : Zindgi Se Mat Jhagad..

    Banned Area News : Conference, workshop on type 2 diabetes on Aug 21

    उत्तर देंहटाएं
  15. अर्चना जी . एक मुकम्मल गजल पढ़कर मन प्रसन्न हो गया ।
    लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. नजर लगाने की खातिर हैं नेकियाँ आईं
    उतारने को नजर आ गईं बलाएं हैं
    वाह....
    अर्चना जी, तरही में शामिल...
    बेहतरीन ग़ज़लों में से एक है आपका कलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  17. waah waah waah

    kya khoob likha hai .. mujhe to saare hi sher pasand aaye . gazal bahut behatreen ban padhi hai .. badhayi

    आपसे निवेदन है की आप मेरी नयी कविता " मोरे सजनवा" जरुर पढ़े और अपनी अमूल्य राय देवे...
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2010/08/blog-post_21.html

    उत्तर देंहटाएं
  18. घुटन है, पीर है, कुंठा है, यातनाएं हैं
    मुहब्बतें हैं कहाँ, अब तो वासनाएं हैं
    ..वाह!

    उत्तर देंहटाएं