रविवार, 30 अगस्त 2009

देखा तेरी आंखों में...


देखा तेरी आँखों में अक्स कुछ अपना सा
गाने लगा मन इक प्यार का नगमा सा

छू गई मेरे दिल का कोई तार कहीं
छाया था पलकों पे इकरार का सपना सा

अनजान थी मैं खुद के हाले दिल से
देखा मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा

ले गई वो
मुझको चुराकर मुझ ही से
कर गई महफिल में मुझको तनहा सा

उनकी चंचलता ने मदहोश कर दिया
छाने लगा हो जैसे इक प्यार का नशा सा


(चित्र गूगल सर्च से साभार)

42 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर रचना के लिये आप का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है! बहुत बढ़िया लगा !इस बेहतरीन रचना के लिए ढेर सारी बधाइयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. SUNDAR RACHNA है ............. दिल के PAAR UTARTI है .......

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनजान थी मैं खुद से हाले दिल से बेखबर
    पाया मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा,

    बहुत सुन्दर रचना!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनजान थी मैं खुद से हाले दिल से बेखबर
    पाया मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा
    बेहद खूबसूरत जारी रहे...
    मीत

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत भावपूर्ण रचना है काबिले तारीफ है! बहुत बढ़िया

    बेहतरीन रचना के लिए ढेर सारी बधाइयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. छू गई मेरे दिल का कोई तार कहीं
    छाया था पलकों पे इकरार का सपना सा
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. "छू गई मेरे दिल का कोई तार कहीं
    छाया था पलकों पे इकरार का सपना सा"

    खूबसूरत पंक्तियाँ । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनजान थी मैं खुद के हाले दिल से
    देखा मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा

    khoobsoorat linessssssss.

    उत्तर देंहटाएं
  10. देखा तेरी आँखों में अक्स कुछ अपना सा
    गाने लगा मन इक प्यार का नगमा सा..
    क्या खूब लिखा है आपने ... दिल को छू गई...
    यूं ही लिखते रहिये... अपने हर्फ़ की खुशबु ब्लॉग पर बिखेरते रहिये....
    आमीन.......

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप के आँखों में पल रहे इन खवाबों को सलाम... क्योंकि ... सब से खतरनाक होता है हमारे सपनो का मर जाना ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. अनजान थी मैं खुद के हाले दिल से
    देखा मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा..bahut khoobsurat....

    उत्तर देंहटाएं
  13. सचमुच में बहुत ही प्रभावशाली लेखन है... वाह…!!! वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। बहुत सुन्दरता पूर्ण ढंग से भावनाओं का सजीव चित्रण...
    आप के द्वारा दी गई प्रतिक्रियाएं मेरा मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहन करती हैं। आप मेरे ब्लॉग पर आये और एक उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया दिया…. शुक्रिया.
    आशा है आप इसी तरह सदैव स्नेह बनाएं रखेगें….

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  15. ले गई वो मुझको चुराकर मुझ ही से
    कर गई महफिल में मुझको तनहा सा

    गहरे भाव लिए सुन्दर रचना
    अच्छा लगा पढ़कर

    आभार एवं शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  16. बधाई, रचना सुन्दर बन पड़ी है

    उत्तर देंहटाएं
  17. "देखा तेरी आँखों में अक्स कुछ अपना सा
    गाने लगा मन इक प्यार का नगमा सा"
    प्रेम भरे भावों की सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  18. उनकी चंचलता ने मदहोश कर दिया
    छाने लगा हो जैसे इक प्यार का नशा सा...

    इस शेअर में "उनकी" जगह यदि "उसकी" कर देते
    तो अपनत्व का अहसास और गहरा और तीक्ष्ण हो जाता.....
    बहुत बढ़िया रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  19. अनजान थी मैं खुद के हाले दिल से
    देखा मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा
    bahut khoob !!
    tasveer bhi bahut khoobsurat lagi..

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब कहा आपने

    bahot khub


    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. देखा तेरी आँखों में अक्स कुछ अपना सा
    गाने लगा मन इक प्यार का नगमा सा


    बहुत ही कोमलता से हाले दिल बयाँ कर दिया.........

    अनजान थी मैं खुद के हाले दिल से
    देखा मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा

    बेहद खुब्सूरत .........


    उनकी चंचलता ने मदहोश कर दिया
    छाने लगा हो जैसे इक प्यार का नशा सा

    प्यार होता है तो ऐसे एहसासो के आसपास होते हो आप......

    बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही सुंदर, भावपूर्ण और प्यारी रचना लिखा है आपने!ahut Barhia...aapka swagat hai...


    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  23. अनजान थी मैं खुद के हाले दिल से
    देखा मैंने उनमें इक हमसफ़र अपना सा

    ले गई वो मुझको चुराकर मुझ ही से
    कर गई महफिल में मुझको तनहा सा
    archnaji
    wah ..anjan thi mein ......kya baat hai pyar ke aagman ka kya khoob chitran kiya hai ...bahut hi badiya ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. bahot hi acha likha hua hai apne..Wah!roj padta ho tumhare lekhe hue post dil ko bahut bhati hai..

    उत्तर देंहटाएं
  25. देखा तेरी आँखों में अक्स कुछ अपना सा
    गाने लगा मन इक प्यार का नगमा सा

    मजबूर करती हैं आपकी पंक्तियां कि कुछ कहा जाये
    खुशबू के पास से निकले तो चुप न रहा जाये

    उत्तर देंहटाएं
  26. amazing gazal archana ji ;

    anjaan thi main khud ke haale dil .. sabse behatreen sher hai .. waaaaaaaaah

    padhkar ek khushboo si cha gayi ..

    meri badhai sweekar kare .

    regards,

    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  27. आँखों पर बहुत खूब कहा आपने, साथ में सारगर्भित चित्र भी . अति सुन्दर .

    मुझे याद आ रही है श्री जगदीश कुमार की हाइकु -

    अँधेरा घुप्प
    आँखें ही आँखें
    दहाड्तीं ?

    अर्चना जी बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  28. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  29. देखा तेरी आँखों में अक्स कुछ अपना सा
    गाने लगा मन इक प्यार का नगमा सा

    आप के और मेरे प्रोफ़ाइल में बहुत समानता है। मुझसे मिलने के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं